बुद्धिमान छोटी गौरैया | short moral stories in Hindi | 13

short moral stories in Hindi | बुद्धिमान छोटी गौरैया |

एक समय की बात है, भारत के हरे-भरे जंगल में चिरपी नाम की एक छोटी और चतुर गौरैया रहती थी। वह अपनी बुद्धिमत्ता और दयालुता के लिए जानी जाती थी और जंगल के अन्य सभी जानवर उसकी प्रशंसा करते थे। short moral stories in Hindi

एक चिलचिलाती गर्मी के दिन, जंगल में भयंकर सूखा पड़ा। जल स्रोत सूख रहे थे और जानवर अपनी प्यास बुझाने और जीवित रहने के लिए पानी खोजने के लिए संघर्ष कर रहे थे। साधन संपन्न होने के कारण चिरपी ने अपने साथी प्राणियों की मदद करने का फैसला किया। short moral stories in Hindi

short moral stories in Hindi

वह एक पेड़ से दूसरे पेड़ तक उड़ती रही, प्रत्येक जानवर से बात करती रही और उनसे पानी बचाने का आग्रह करती रही। उन्होंने हाथियों को नहाते समय पानी बर्बाद न करने की सलाह दी, हिरणों को पीने के लिए पर्याप्त पानी का उपयोग करने की शिक्षा दी और बंदरों को वर्षा जल संचय करने के लिए प्रोत्साहित किया। उसके ज्ञान के शब्दों ने सभी जानवरों के दिलों को छू लिया। short moral stories in Hindi

लेकिन, ग्रम्पी नाम का एक जानवर था, जो स्वार्थी और घमंडी शेर था, जो चिरपी के प्रयासों पर हँसता था। उसका मानना था कि वह जंगल का राजा है और उसे जितना चाहे उतना पानी इस्तेमाल करने का अधिकार है, चाहे दूसरों के लिए इसका परिणाम कुछ भी हो। short moral stories in Hindi

ग्रम्पी के अहंकार के बावजूद, चिरपी धैर्यवान और दयालु रहा। उसने उसे अपने तरीके बदलने के लिए मनाने की कोशिश करना नहीं छोड़ा। उसने उससे कहा, “पानी एक अनमोल संसाधन है और इसे बर्बाद करके आप न केवल दूसरों को बल्कि लंबे समय में खुद को भी नुकसान पहुंचा रहे हैं।” short moral stories in Hindi

ग्रम्पी को ऐसे शब्द सुनने की आदत नहीं थी और वह चिरपी के साहस से दंग रह गया। समय के साथ, उसकी बातें उसके मन में गूंजने लगीं। उन्होंने महसूस किया कि राजा होने का मतलब फिजूलखर्ची करना और दूसरों के प्रति लापरवाह होना नहीं है। short moral stories in Hindi

चिरपी की बुद्धिमत्ता और करुणा से प्रेरित होकर, ग्रम्पी ने अपने तरीके सुधारने का फैसला किया। उन्होंने पानी का संरक्षण करना शुरू किया और नए जल स्रोत खोजने में अन्य जानवरों की भी मदद की। short moral stories in Hindi

जैसे-जैसे दिन बीतते गए, जानवरों ने चिरपी की सलाह का पालन करते हुए एक साथ काम किया और अंततः एक छिपा हुआ भूमिगत झरना ढूंढ लिया। सूखे के दौरान पूरे जंगल को सहारा देने के लिए पानी पर्याप्त था। short moral stories in Hindi

जानवर चिरपी के मार्गदर्शन के लिए उसके आभारी थे और वह उनके बीच एक सम्मानित व्यक्ति बन गई। ग्रम्पी ने, विशेष रूप से, अपने तरीके बदल दिए और अधिक देखभाल करने वाला और विचारशील राजा बन गया। short moral stories in Hindi

कहानी का सार: दया, बुद्धि और सहयोग से सबसे चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों पर भी काबू पाया जा सकता है। चाहे आप कितने भी छोटे क्यों न हों, आपके कार्य और शब्द दूसरों के जीवन में बड़ा बदलाव ला सकते हैं। एक साथ काम करके और अपने कार्यों के प्रति सचेत रहकर, हम बाधाओं को दूर कर सकते हैं और सभी के लिए एक बेहतर दुनिया बना सकते हैं। short moral stories in Hindi

1 thought on “बुद्धिमान छोटी गौरैया | short moral stories in Hindi | 13”

Leave a comment