short moral stories in Hindi | 08

stories in Hindi

एक समय की बात है, भारत के एक छोटे से गाँव में राज नाम का एक छोटा लड़का रहता था। राज एक जिज्ञासु और साहसी बच्चा था जिसे अपने आस-पास की दुनिया की खोज करना पसंद था। वह अपना दिन खेतों में खेलने, पेड़ों पर चढ़ने और जानवरों से बात करने में बिताता था। stories in Hindi

stories in Hindi

एक धूप वाले दिन, जब राज जंगल में घूम रहा था, उसकी नजर एक छिपी हुई गुफा पर पड़ी। गुफा का प्रवेश द्वार घनी लताओं और पत्तियों से ढका हुआ था, लेकिन राज की जिज्ञासा उस पर हावी हो गई। उसने सावधानी से पत्तों को एक तरफ धकेला और अंधेरी गुफा में प्रवेश कर गया। stories in Hindi

अंदर, राज को एक पत्थर की चौकी पर चमकता हुआ सुनहरा चिराग़ आराम करते हुए मिला। जैसे ही उसने दीपक उठाया और उसे धीरे से रगड़ा, उसका हृदय उत्साह से भर गया। अचानक धुएं के बादल में एक जादुई जिन्न प्रकट हुआ। stories in Hindi

जिन्न ने राज को चिराग से रिहा करने के लिए धन्यवाद दिया और कहा, “मैं एक जिन्न हूं और मेरे पास आपकी तीन इच्छाएं पूरी करने की शक्ति है। लेकिन याद रखें, आप जो भी चाहते हैं वह पूरा होगा, इसलिए बुद्धिमानी से चुनें।” stories in Hindi

राज की आँखें उत्तेजना से फैल गईं। उसने एक पल के लिए सोचा और कहा, “जिन्न, मेरी पहली इच्छा के लिए, मुझे सोने के सिक्कों का एक थैला चाहिए। इसके साथ, मैं अपने परिवार और हमारे गाँव के गरीबों की मदद कर सकता हूँ।” stories in Hindi

जिन्न ने सिर हिलाया और राज की इच्छा पूरी कर दी। एक पल में, चमकदार सोने के सिक्कों से भरा एक थैला उसके सामने आया। राज बहुत खुश हुआ और उसने जिन्न को उसकी दयालुता के लिए धन्यवाद दिया। stories in Hindi

जैसे-जैसे दिन बीतते गए, राज का परिवार अमीर होता गया और उन्होंने अपनी नई संपत्ति का इस्तेमाल जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए किया। उन्होंने स्कूल, अस्पताल बनवाए और कम भाग्यशाली लोगों को भोजन और आश्रय उपलब्ध कराया। गाँव खूब फला-फूला और सभी लोग खुशी से रहने लगे। stories in Hindi

एक दिन, राज की मुलाकात एक गरीब बूढ़े आदमी से हुई जो सड़कों पर भीख मांग रहा था। वह आदमी कमज़ोर और भूखा था। राज को अपने दिल में दुख की एक टीस महसूस हुई और उसने अपनी दूसरी इच्छा का उपयोग करने का फैसला किया। stories in Hindi

“जिन्न,” राज ने कहा, “मेरी दूसरी इच्छा के लिए, मैं चाहता हूं कि दुनिया में हर किसी को पर्याप्त भोजन, साफ पानी और रहने के लिए एक सुरक्षित जगह मिले। किसी को भी कभी भूखा नहीं सोना चाहिए या आश्रय के बिना नहीं रहना चाहिए।” stories in Hindi

जिन्न राज की निस्वार्थ इच्छा पर मुस्कुराया और उसे पूरा कर दिया। एक पल में, अकाल से त्रस्त भूमि उपजाऊ खेतों में बदल गई, दुनिया के हर कोने में साफ पानी बहने लगा और झुग्गी-झोपड़ियों की जगह मजबूत मकानों ने ले ली। stories in Hindi

केवल एक इच्छा शेष रह जाने पर, राज ने इस बात पर विचार किया कि वह दुनिया को और भी बेहतर जगह कैसे बना सकता है। फिर उसने कुछ ऐसा सोचा जो सभी के लिए शाश्वत खुशी और खुशी लाएगा। stories in Hindi

“जिन्न,” राज ने कहा, “अपनी अंतिम इच्छा के लिए, मैं चाहता हूं कि हर कोई शांति और सद्भाव से रहे। मैं चाहता हूं कि लोग एक-दूसरे के मतभेदों को समझें और उनका सम्मान करें और एक बेहतर दुनिया बनाने के लिए मिलकर काम करें।” stories in Hindi

जिन्न का चेहरा गर्व से चमक उठा और उसने राज की अंतिम इच्छा पूरी कर दी। उस दिन के बाद से, पूरी दुनिया में लोग शांति से रहने लगे। उन्होंने अपनी विविधता का जश्न मनाया, दयालुता को अपनाया और अपने साझा ग्रह की रक्षा के लिए हाथ से काम किया। stories in Hindi

राज ने संतोष से भरे दिल से जिन्न को उसके असाधारण उपहारों के लिए धन्यवाद दिया। जिन्न गुफा की दीवार पर खुदा हुआ एक संदेश छोड़कर गायब हो गया: “सच्ची ख़ुशी निःस्वार्थता और दूसरों की भलाई में निहित है।” stories in Hindi

राज जहां भी गए, प्रेम, करुणा और खुशियां फैलाते हुए अपना जीवन जीते रहे। उनकी कहानी ने कई अन्य लोगों को दयालु और निस्वार्थ होने के लिए प्रेरित किया, उन्हें याद दिलाया कि जीवन में सबसे बड़ा खजाना अच्छाई के कार्यों और देने की खुशी में पाया जाता है। stories in Hindi

समाप्त।

1 thought on “short moral stories in Hindi | 08”

Leave a comment